Washing Dishes: चाय के बर्तन, खाने पीने के बर्तन

Doing dishes, one of the tedious tasks that nobody want to do in the family. Now guess who is obliged to do that task. Of course “Mother”.

In today’s time when we all claim to be self dependent, we avoid to make our hands dirty in some household chores.

Yes, many of us have developed the hobby of cooking and gardening for shake of instagram likes. But cleaning home, doing dishes, and wiping floors are yet to develop as a hobby Or looking  cool to get uploaded and accolades on instagram. Till then, my independent fellows, lets get depended on ” Mother” to do it for you.

किचन का काम या कोई युद्ध:

किचन का काम किसी युद्ध लड़ने से कम नहीं। युद्ध ख़त्म होता है ” जीतने से” और किचन का काम ख़त्म होता है ” बर्तन धुलकर सफाई करने से”। अगर युद्ध हारे तो युद्ध ख़त्म नहीं क्यूंकि ” एक युद्ध तो अभी भी मस्तिष्क में जारी है” उसी तरह किचन में जब कोई काम अधूरा रह जाता है तो वो” दिमाग में किसी जंगली घोड़े सा दौड़ता है जिसका कोई अस्तबल नहीं होता”।

भले ही किचन में खाना बनाना, तरह – तरह के पकवान बनाना, हम में से काफी लोगों ने अपना शौक पाल लिया है पर आपके घर में ही एक ऐसा सदस्य है जिसके लिए किचन का काम करना किसी नाईटमेयर से कम नहीं क्यूंकि उसने अपनी पूरी जिंदगी वो काम करने में लगायी है जो उसे कभी पसंद ही नहीं थी।

हाँ मान लिया ” खाना बनाना एक आर्ट है जो आप कहीं भी डिस्प्ले कर सकते हैं और तारीफों की अशर्फियाँ बटोर सकते हैं”। अब इतने जल्दी अगर रिजल्ट मिल जाए तो वो काम, काम कहाँ रह जाता है। ये भी मान लिया कि खाना बनाके आपने कोई दैवीय सत्व और ख़ुशी पा ली हो। और घर के सदस्यों के केवल थालियों पर ही नहीं उनके चेहरे पर भी मुस्कुराहट परोस दी हो। पर कोई उसी मुस्कराहट के पीछे छिपकर अपना संदेह छिपाने की कोशिश कर रहा है जैसे युद्ध ख़त्म होने पर उसपे मलवा हटाने की जिम्मेदारी थोप दी गयी हो। इस मानसिक पीड़ा से गुजर रहे उस शख्स को बस एक बार इतना पूछ लेना : Are you enjoying your meal ?

इंग्लिश में है तो शायद उसकी समझ में नहीं आया होगा क्यूंकि अगर आया होता तो ये सवाल तुमसे पूछा गया होता। मैं नहीं बोलूंगा कि बर्तन धोलिया करो या किचन कि सफाई करलिया करो ताकि उसका थोड़ा सा बर्डन कम हो। पर एक निवेदन जरूर करूँगा कि बर्तन धोना या सफाई करना भी उतना कूल बनादिजिये जितना खाना बनाना है ताकि इंस्टा में भी इससे उतने ही लाइक्स मिलें जितना खाना बनाने की तस्वीरों को मिलते हैं। ताकि ये लाइक्स आपको बर्तनों के तोडा करीब ले आएं और शायद घर के उस सदस्य का मानसिक तनाव कुछ कम हो जाए।

चाय के बर्तन, खाने पीने के बर्तन: A Hindi Poem

 

” चाय के बर्तन, खाने पीने के बर्तन
बस इतने से ही तो है धोने के बर्तन

बाद में धोदेंगे ये बर्तन
फिर सिंक में धीरे धीरे जमा होते ये बर्तन
धोते धोते प्राण निकल जाएँ
बाप रे बाप इतने सारे ये बर्तन

और एक की उम्र गुजर जाती है
धोते धोते उतने बर्तन
हाँ मेरे तुम्हारे झूठे बर्तन
चाय के बर्तन, खाने पीने के बर्तन “

 

Washing Dishes
do the dishes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *