Tiddiyon Ke Hamle: A Hindi Poem

Tiddiyon Ke Hamle: A Hindi Poem where we are the witness of 2020.  The time when the deadly Locust attack was in news, an elephant was given pineapple stuffed with bomb that killed her and her unborn child slowly and painfully. So, environment day is nothing more than a shallow thing to celebrate. After reading the complete Hindi poem, you can understand what the poem wants to say. It is pointing somewhere else just by keeping tiddi main character.  Here are some other Hindi Poems which can compel you to think, visit PahadNama.

Tiddiyon Ke Hamle: A Environment Day Hindi Poem 2020

टिड्डियों के हमले नये नहीं

न जाने क्यों जाने पहचाने लगते हैं।

 

जिस जगह से उड़ते हैं

पूरी की पूरी हरियाली चटकर जातें हैं।

जिस तरह से जंगल के जंगल सारे के सारे कट जाते हैं।

 

टिड्डियों के हमले नये नहीं

न जाने क्यों जाने पहचाने लगते हैं।

 

न मिली हरियाली तो

एक दूसरे को खा खा मर जाते हैं।

जैसे दूर देश में काले गोरे, मेरे देश में भगवा हरे

यूँही लड़ लड़ मर जाते हैं।

 

टिड्डियों के हमले नये नहीं

न जाने क्यों जाने पहचाने लगते हैं।

 

पर्यावरण का हिस्सा होकर

पर्यावरण के ही चीथड़े उड़ाते हैं

जब अनानास में बम भरकर

वो हथिनी को खिलाते हैं।

 

टिड्डियों के हमले नये नहीं

न जाने क्यों जाने पहचाने लगते हैं।

 

To read other Hindi poems, you can visit here. you will find here various types of Hindi poems of various situations with may give you a different perspective on a particular things which is really good for overall mental development.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *