Tea: Love of India/ Beats Heart For Tea

Tea: Love of India/ Beats Heart for Tea is a poem which is Aadhar card to know that he is Indian metaphorically.

 

ये चाय तेरे इश्क़ की तलब में

मेरे हाथों एक बेचारा अदरक कुट गया

HINDI:

ठंडे पड़े रिश्तों को, यादों के बस्ते से निकाल 

चाय की गरमाहट, रिश्तों में ढूंढ रहा हूँ। 

कड़क मिजाज़ के साथ, सलीक़े से मिठास अपनाकर, रिश्ते निभाना सीख रहा हूँ। 

मैं चाय बनाना सीख रहा हूँ। 

 

अदरक, इलाइची के बगैर, केवल चाय का स्वाद पहचान रहा हूँ। 

नक़ाब के अन्दर झाँककर, असली चेहरे को पहचान रहा हूँ। 

मैं चाय बनाना सीख रहा हूँ। 

 

माँ और टोकरों के बाद तू ही तो है।  “चाय

जो वक़्त दर वक़्त मुझे नींद से जगाती रही,

वरना दिन का कोई ऐसा पल नहीं 

जो मैंने सोकर कभी खोया नहीं। 

 

अरे तू केवल  “चाय “ नहीं 

                                              “चाह “ है मेरी, लबों  से दिल

को छूके निकले,वो “वाह “ है मेरी। 

तभी तो  मैं चाय बनाना सीख रहा हूँ। 

 

तू पहली मुक़म्मल मोहब्बत है मेरी,

हर सुबह-श्याम की जरुरत है मेरी। 

 

देखो- देखो !

धीमी – धीमी आँच पे निखर रही है,

वो चाय नहीं, मेरी जिंदगी है जो उबल रही है। 

इसलिए तो कहता हूँ दोस्तों:

मैं चाय बनाना सीख रहा हूँ। 



 

ENGLISH:

TANDE PADE RISHTON KO, YAADON KE BISTAR SE BAHAR NIKAL

CHAI KI GARMAHT, RISHTON ME DUND RHA HUN,

KADAK MIJAZ KE SATH, SALIKE SE MITAAS APNAKR RISHTE NIBHANA SEEKH RHA HUN.

MAIN CHAI BNANA SEEKH RHA HUN.

 

ADHARK, ILAICHI KE BAIGAR, KEWAL CHAI KA SWAAD PAHCHAAN RHA HUN,

NAKAB KE ANDAR JHANK KAR, ASLI CHEHARE KO PAHCHAAN RHA HUN.

MAIN CHAI BNANA SEEKH RHA HUN. 

 

 MAA AUR TOKRON KE BAAD TU HI TO HAI. “CHAI”

JO WAQT DAR WAQT, MUJHE NEEND SE JAGAATI RAHI.

WARNA DIN KA KOI AISA PAL NHI JO MAINE SOKAR KABHI KHOYA NHI.

 

ARE TU   KEWAL      “CHAI” NHI 

                                         “CHAAH” HAI MERI, LABON SE DIL KO 

CHUKE NIKALE WO “WAAH” HAI MERI.

TABHI TO MAIN CHAI BNANA SEEKH RHA HUN. 

 

TU PAHLI SI MUKKMMAL MAHOBBAT HAI MERI

HAR SUBAH- SHAAM KI JAROORAT HAI MERI.

DEKHO- DEKHO:

DHIMI- DHIMI AANCH PE NIKHAR RAHI HAI,

WO CHAI NHI, MERI JINDAGI HAI, JO UBBAL RAHI HAI.

ISILIYE TO KHATA HUN DOSTON,

MAIN CHAI BNANA SEEKH RHA HUN. 



REKHATA:

REKHATA IS KNOW FOR ITS MATURE WAY TO CONVERY POETRY AND OTHER FOR OF WRITINGS. SURELY YOU WOULD BE BENEFITTED FROM IT IF YOU VISIT THE LINK.

NEXT

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *