Taapmaan | तापमान | हिंदी कविता |

Taapmaan | तापमान | हिंदी कविता | PahadNama Taapmaan | तापमान | हिंदी कविता | Hindi Poems     सिर्फ, कमरे के सामान्य तापमान से ऊपर IQ वालों के लिए :   हाँ – हाँ जानता हूँ सबकुछ एक ही है। पर तापमान चाहिए अपना – अपना अस्तित्व बचाने के खातिर।   तभी शायद अपना…

Read More

Vigyan Aur Prem | विज्ञान और प्रेम | कविता

Vigyan Aur Prem | विज्ञान और प्रेम | कविता  : सच और कल्पना के बीच फर्क है सिर्फ मानने भर का। विज्ञान और प्रेम  कविता में विज्ञान और प्रेम के एक विषय पर अलग अलग विचार है। दोनों अपने को वास्तविक और दूसरे को काल्पनिक मानते हैं। Watch: PahadNama Listen: PahadNama   Vigyan Aur Prem…

Read More

Suno Hindi Poem | सुनो : कविता |

Suno Hindi Poem | सुनो :  कविता . मैं सारी मेल कम्युनिटी की जिम्मेदारी तो नहीं लेता पर अमूमन लड़कों का कमरा अस्तव्यस्त देखा है मैंने। हाँ कुछ लड़कियों का भी पर वो गिन्ने चुन्ने ही थे। मेरा खुद का कमरा काफी अस्तव्यस्त है। जगह – जगह चीज़ें पड़ी रहती हैं। PahadNama ये कविता मेरे…

Read More

अरहर की दाल |Trying to fit in | Hindi Poem |

अरहर की दाल | Trying to fit in | Hindi Poem,  एक हिंदी कविता जिसमे किरदार को अरहर पसंद है पर लोगों के सामने राजमा बताना पड़ता था। इस डर से की लोग उसे अलग न करदें। इस तरह की चीज़ें अक्सर हमारे साथ होती हैं और हम वो करने लगते हैं जो हमे पसंद…

Read More

Pakshi Par Kavita | पक्षी पर कविता | Hindi Poem |

Pakshi Par Kavita by kagaj kalam, An inspiring Hindi poem which tells the journey of a brave and curious bird. She has left her home to pursue her dream. She meets many people in the journey and makes them to love her. Maybe somewhere you find yourself in that bird. PahadNama   Pakshi Par Kavita…

Read More

तुम्हे पहाड़ घुमाते हैं: Hindi Kavita

तुम्हे पहाड़ घुमाते हैं , a Hindi Kavita by Kagaj Kalam takes you to the new type of adventure which is travelling the hills by bus. Read Here: Gulzar Poetry Hindi lyrics तुम्हे पहाड़ घुमाते हैं: Hindi Kavita Watch PahadNama   अरे एडवेंचर्स के शौकीनों ट्रैकिंग, राफ्टिंग, बंजी जंपिंग जैसे महंगे नशे तो खूब किये…

Read More

Pahad Mera Ghar: Hindi Kavita

Pahad Mera Ghar is a Hindi Kavita by Kagaj Kalam shows the chatpatahat of going home but don’t find it as expected. Pahad Mera Ghar: Hindi Kavita Lesson 1: Present Me  आंखें सुर्ख, नींद अधूरी जैसे किसी सपने का क़त्ल करके आया हो, चेहरे पे तल्खियों की सलवटें, बातों में वो चिड़चिड़ापन जैसे खुशियों का…

Read More

पहाड़ बोला पहाड़ियों से : Hindi Kavita

पहाड़ बोला पहाड़ियों से : Hindi Kavita by Kagaj Kalam is showing the palayan of Pahad. If pahad is a living person, it definitely would have something to complain. This Hindi poem is one of them. To listen the Hindi Kavita, you can visit the PahadNama, YouTube channel or just simply click here. पहाड़ बोला…

Read More

Koi Chahiye: Hindi Poem

Koi Chahiye: Hindi Poem is a writer’s perspective that he is looking something in his partner. All these are simple and small expectations rather than some wild ones.  You can relate to it as you must have been thinking so. It is my effort to manage between my love to pahad and partner. If she…

Read More

Kuch Pahad Kandho Par Kuch Bele Pairon Par: A Hindi Poem

Kuch Pahad Kandho Par Kuch Bele Pairon Par: A Hindi Poem. You can find the context of this Hindi poem very easily. It is a story of a lover who is fallen in love with his native land. but is away from it for earning his living necessities. Somehow he manages to come his native…

Read More