तुम्हे पहाड़ घुमाते हैं: Hindi Kavita

तुम्हे पहाड़ घुमाते हैं , a Hindi Kavita by Kagaj Kalam takes you to the new type of adventure which is travelling the hills by bus. Read Here: Gulzar Poetry Hindi lyrics तुम्हे पहाड़ घुमाते हैं: Hindi Kavita Watch PahadNama अरे एडवेंचर्स के शौकीनों ट्रैकिंग, राफ्टिंग, बंजी जंपिंग जैसे महंगे नशे तो खूब किये होंगे…

Read More

Pahad Mera Ghar: Hindi Kavita

Pahad Mera Ghar is a Hindi Kavita by Kagaj Kalam shows the chatpatahat of going home but don’t find it as expected. Pahad Mera Ghar: Hindi Kavita Lesson 1: Present Me  आंखें सुर्ख, नींद अधूरी जैसे किसी सपने का क़त्ल करके आया हो, चेहरे पे तल्खियों की सलवटें, बातों में वो चिड़चिड़ापन जैसे खुशियों का…

Read More