SUNDAY: Fursat Wala Missing Sunday

SUNDAY की सुबह है,

बारिश का मौसम है।

चाय नहीं, पकौड़े नहीं

 

गुरुर में थे,

नींद से कोई जगा नहीं सकता

बिस्तर से कोई हमें हिला नहीं सकता

अचानक फिर WATS UP की रिंग हुई,

मुँह से गालियों की BINGE हुई

 

फिर….. फिर क्या

एक घंटे बाद OFFICE में GOOD MORNING हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *