Sun and Earth: A Beautiful Love Story

Sun and Earth: A Beautiful Love Story

HINDI:

 

इश्क़ का रोग होता ही,  ऐसा है जनाब

बर्बाद होने की आयतें, हम रोज पढ़ा करते हैं।”

 

क्रोध नहीं ये सूर्य का,

इश्क़ है इस धरती का

महबूब की गली, महोब्बत में देखो  फनाह होने वो चली।

 

अन्जामे इश्क़ जो भी हो, भुगतना औरों को भी होगा,

ये महोब्बत की गर्मी है भाई, जलना तो हमे भी पड़ेगा।

 

इतिहास गवाह है,

सच्ची मोहब्बत का दुश्मन ये सारा जहान होता है।

कोसते हैं महबूब को और गलियाते है महबूबा को

जब प्यार के पंछी एक दूसरे से मिलने को

जातियों के बंधन, मजहब की रिवायतें, समाज की सोच

और सीमाओं के दायरे तोड़कर आगे बढ़ जातें हैं।

 

तो हैरान न होना दोस्तों,

अगर कोई जून में

सूरज को कोसे और धरती को गलियाते हुए मिले।

 

बस गुजारिश है, महोब्बत को समझने वालों से,

इश्क़ मुकम्मल  हो उनका दुआ तुम करना, 

 

गर्मी चाहे कितनी भी पड़े।

मोहबत को खुदा, और इस मिलन की इबादत करना।

हर कोई दुश्मने इश्क़ नहीं होता

रती और सूरज को ये इतल्ला कर दो,

तुम्हारी मोहब्बत बस मुकम्मल हो जाये,

बाकी सब फनाह कर दो।

 

हर इश्क़ अपनी उम्र लिए इस जहान में आता है

धरती और सूरज का इश्क़, क्या खूब सीख हमे सीखता है।

 

भलाई है जुदाई में इस जग की, फैसला उन्हें ही है ये खुद लेना

हमें ठंडक देने के लिए,  पुरे साल विरह की अग्नि में है जलना।

क्यूंकि वो इश्क़ भी क्या इश्क़ हुआ, जिसमें विरह की अग्नि न हो।

 

मिलन ही अगर इश्क़ का अंजाम होता।

तो इश्क़ इतना बदनाम न होता।

फिर भी वो इश्क़ भी क्या इश्क़ जिसमे

फिर मिलन की चाह न हो। 

 

 

*तो गर्मी के मजे लीजिये।*



Sun and Earth: A Beautiful Love Story

ENGLISH:

“ISQ KA ROG AISA HI, HOTA HAI JANAAB

BARBAAD HONE KI AAYTE, HUM ROZ PDA KARTE HAIN.”

 

KRODH NHI YE SURYA KA,

ISQ HAI ISS DHARTHI KA,

MAHBOOB KI GALI, MAHHOBAT ME DEKHO,

FANAAH HONE WO CHALI.

 

ANZAME ISQ JO BHI HO, BHUGATNA AURON KO BHI HOGA,

MAHHOBAT KI GARMI HAI BHAI, JALNA HUME BHI PADEGA.

 

ITIHAAS GAWAAH HAI,

SACHHI MOHHOBAT KA DUSHMAN YE SARA JAHAAN HOTA HAI.

KOSTE HAIN, MAHBOOB KO AUR GALIYAATEIN HAIN MAHBOOBA KO

JAB PYAAR KE PANCHI AK DUSRE SE MILNE KO 

JATIYON KE BANDHAN, MAZHUB KI RIWAAYTEIN, SAMAAJ KI SOCH

AUR SEEMAON KE DHAYRE TODKAR AAGE BAAD JAATEIN HAIN. 

 

 TO HAIRAAN N HONA DOSTON,

AGAR KOI JUNE ME,

SURAJ KO KOSHE AUR DHARTI KO GALIYAATE HUYE MILE.

 

BAS GUZARISH HAI, MOHHOBAT KO SAMJHNE WAALON SE,

ISQ MUKKAMAL HO UNKA DUWA TUM KARNA,

GARMI CHAHE KITNI BHI PADE,

MOHHOBAT KO KHUDA, AUR ISS MILAN KI IBAADAT KARNA.

 

HAR KOI DUSHMANE ISQ NHI HOTA,

DHARTI AUR SURAJ KO YE ITLLA KAR DO,

TUMARI MOHHOBAT BAS MUKMMAL HO JAYE,

BAAKI SAB FANAH KAR DO.

 

HAR ISQ APNI OMAR LIYE ISS JAHAN ME AATA HAI,

DHARTI AUR SURAJ KA ISQ, KYA KHUB HUMEIN SIKHATA HAI.

 

BHALAYI HAI ZUDAI ME ISS JAG KI, FAISLA UNHEIN HI HAI YE KHUD LENA,

HUMEIN TANDAK DENE KE LIYE, PURE SAAL VIRAH KI AGNI ME HAI JALNA.

KYUNKI WO ISQ BHI KYA ISQ HUWA, JISME VIRAH KI AGNI N HO.

 

MILAN HI AGAR ISQ KA ANZAAM HOTA.

TO ISQ ITNA BADNAAM N HOTA.

FIR BHI WO ISQ BHI KYA ISQ JISME 

FIR MILAN KI CHAAH N HO. 

 

 

 

*SO ENJOY SUMMER*

 

 

 

NEXT—.

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *