SUMMER: NATURE AGAINST YOU

SUMMER: NATURE AGAINST YOU

 

HINDI:

 

धोख़े के किस्सों में, एक और नया अध्याय जुड़ गया।  

जब जून का महीना आते- आते,

पंखे, कुलर ने तो क्या ऐसी ने भी हमसे मुंह मोड़ लिया।  

 

ठंडे पानी से नहाने नई तमन्ना, बस दिल में रह गयी,

कमबख्त टंकी ने जब हमें खौलते पानी के हवाले कर दिया। 

 

प्यास है, की बुझती नहीं,

बार- बार पानी पीयो, तो लघुशंका की शंका फिर जाती नहीं,

 

” पहले तो नींद हमे आती नहीं, आई तो बीच – बीच में टूट है जाती पर पूरी कभी होती नहीं। 

ये किस बात की  सजा मुझे है मिल रही, जज-साहब 

मैंने तो इश्क़ करने का हसीन गुनाह कभी किया ही नहीं।” 

 

इस गर्मी में देखो सब गर्म मिजाजी हैं। 

पर मेरी क्या ख़ता, जो अपना तापमान मुझपे माप रही है। 

 

बाइक को तो देखो मेरी, खुद को मेरी 

वाइफ समझ रही है।

दोनों ही मुझे अब बैठने देती कहाँ है.

एक अपनी गद्दी पर और दूसरी 

चैन के बिस्तर पर।  

 

इस गर्मी में देखो सब गर्म मिजाजी हैं। 

पर मेरी क्या ख़ता, जो अपना तापमान मुझपे माप रही है। 

 

गलती से जो मैंने कार पर अपनी बाँह टिकाली,

तो उसने मुझे जिन्दा जलाने की शादिश ही कर डाली। 

 

इस गर्मी में देखो सब गर्म मिजाजी हैं। 

पर मेरी क्या ख़ता, जो अपना तापमान मुझपे माप रही है। 

 

न जाने कितने खेल खेलें इस छत पे मैंने,

आज नंगे पाँव चला तो 

खुद को अंगारे कर, मुझे पल भर में ही पराया कर गई। 

 

हवा भी अपने साथ, आग की लपटें बहाती हैं,

राहत की साँस न लेले कोई, इसका पूरा- पूरा ध्यान रखती हैं,

कमीनी बिल्कुल मेरी बीबी सा बरताव करती है।  



SUMMER: NATURE AGAINST YOU

ENGLISH:

 

DHOKHE KE KISSON MAIN AK AUR NYA ADHYAAY JUD GYA.

JAB JUNE KE MAHINA AATE-AATE, 

PANKHE, COOLER NE TO KYA !

 A.C. NE BHI HUMSE MUNH MOD LIYA.

TANDE PAANI SE NAHANE KI TAMANNA, BAS DIL ME HI RAH GAYI 

KAMBAKHT TANKI NE JAB HUME KHOLTE PAANI KE HWAALE KR DIYA. 

 

PYAAS HAI KI KBHI BUJHTI NHI,

BAAR-BAAR PAANI PIYO,

TO LAGUSHANKA KI SHANKA FIR JAATI NHI.

 

PAHLE TO HUME NEEND AATI NHI,

AAYI TO BICH- BICH ME TOOT HAI JAATI,

PAR POORI KABHI HOTI NHI

YE KIS BAAT KI SAJA MUJHE MIL RAHI HAI JUDGE- SAAHIB,

MAINE TO ISQ KARNE KA HASIN GUNAH KBHI KIYA HI NAHI .

” ISS GARMI ME DEKHO SAB GARM- MIJAJI HAIN.

PAR MERI KYA KHATA, JO APNA TAPMAAN MUJPE MAAP RAHI HAIN.” 

 

BIKE KO TO DEKHO MERI, KHUD KO MERI

WIFE SAMJH RAHI HAI.

DONO HI MUJHE BAITNE AB DETI KAHAN HAIN.

AK APNI GADDHI PAR AUR DUSRI CHAIN KE BISTAR PAR.

 

” ISS GARMI ME DEKHO SAB GARM- MIJAJI HAIN.

PAR MERI KYA KHATA, JO APNA TAPMAAN MUJPE MAAP RAHI HAIN.” 

 

GALTI SE MAINE CAR PAR APNI BAANH TIKALI,

TO USNE MUJE JINDA JALANE KI SHADISH HI KAR DAALI.

 

ISS GARMI ME DEKHO SAB GARM- MIJAJI HAIN.

PAR MERI KYA KHATA, JO APNA TAPMAAN MUJPE MAAP RAHI HAIN. 

N JAANE KITNE KHEL KHELE ISS CHAAT PE MAINE,

AAJ NANGE PAANW CHALA TO,

KHUD KO ANGAARE KAR, MUJHE PAL BHAR MEIN HI PARAYA KAR GAYI.

 

HAWA BHI APNE SAATH, AAG KI LAPTEIN BAHATI HAIN

RAHAT KI SAANSH N LELE KOI, ISKA PURA-PURA DHYAAN RAKHTI HAI.

KAMINI BILKUL MERI BIWI SA BARTAAW KARTI HAI. 


MAATRIBHASHA: 

A platform where you can find creation in your language with utmost creativity.

SUMMER: NATURE AGAINST YOU >> NEXT

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *