Rabbit and Tortoise Story: A Story On Traffic

Rabbit and Tortoise Story is not about the old story but a story addressing the issue of traffic in big cities with the same result. In this story the one who has speed will lose from the slower one but the reason will be different at this time. Read and enjoy the sarcasm. If you enjoy watching videos more than reading the things, you can visit the PahadNama.  

Rabbit and Tortoise Story

1:

खरगोश और कछुए की कहानी अब हुई पुरानी,

नया जमाना है तो नयी है कहानी।

पर रेस की वजह है, कुछ जानी पहचानी,

कौन है कितना तेज, किसकी चाल में है परेशानी।

इस कहानी में 4-Wheelers हैं अभिमानी,

तो उन्हें चैलेंज देके हमने भी कर दी है नादानी।

एक्सेलेटर पर जोर और मुझ पर धूल उड़ाकर जो की शैतानी,

तो हमने भी पैदल घर पहुँचने की मन में थी ठानी।

शुरू हुई रेस, तो देखके हुई मुझे हैरानी,

पलभर में, मीलों की खाख थी छानी।

पर तुम्हारे भाई का कहाँ कोई सानी,

चेहरे से हमने भी धूल पोंछी,

और Location, गुगल मैप्स ने पहचानी।

दिखी नहीं 4-Wheeler दूर तक, पर भाई ने तुम्हारे हार नहीं मानी,

चला जीजान से, बिना रुके, बिना थके, अपनी धुन, अपनी रवानी।

2:

अधूरी और बोरिंग है कहानी,

इसीलिए Twist न आया तो होगी बड़ी बेईमानी।

हाँ, जीत गया मैं, सब थी Noida के ट्रैफिक की मेहरबानी,

अब नींद नहीं, ट्रैफिक है उसके हारने की  नयी निशानी।

सारे CC और  Horse Powers, गए थम ,

बस चलते रहे मेरे कदम।

कान में Ear Phones, हाथ में Google Maps,

और मेरे कदम कर रहे मनमानी।

लेकिन पहली बार देखी इस शहर की बेचैनी।

खूबसूरत है लेकिन, देखने की इसे किसी को रजा नहीं,

शायद मिली इसे Develop होने की सजा यहीं।

गाली देना फिजूल था, इसीलिए सुना रहा हूँ ये कहानी,

कर रहा हूँ बयां ट्रैफिक की हालत, अपनी ही जुबानी।

3:

Horse Powers ने एक बात तो होगी जानी,

कछुआ कौन और किसने की नादानी।

इंडिया की Roads पे , हमसे न करो छेड़खानी,

हारोगे हमेशा, मुश्किल होजायेगी इज्जत बचानी,

क्यूंकि Polititians की है हमपे मेहरबानी,

जिन्होंने अपनी बात कहाँ और कब है मानी,

छूट गयी है, शर्म भी अब उन्हें आनी,

खैर अपने भाषणों में, ट्रैफिक से बचने के लिए  जगह है अभी बनानी,

क्यूंकि वादे कैसे करेंगे, अगर होगी नहीं कोई परेशानी।

4:

समस्या का पूरा बिल, Politicians पर फाड़ना भी होगी बेईमानी,

जागरूक होना होगा हमे, अपनी जिम्मेदारी होगी निभानी

कार पूल हो या पब्लिक सर्विस, या कोई अन्य सलूशन

जरुरी है जल्द से जल्द अपनानी।

 

खरगोश और कछुए की रेस, कब तक बने कहानी,

समझदारी नहीं,  एक ही स्केल से सबकी बराबरी मापनी।

It is a new version of rabbit and tortoise story in Hindi with moral. Hope you have taken the moral. Else it there are many good reads here that can compel you to think otherwise that is good for your development of new perception. Read Pahadnama and know what I am talking about.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *