Propose Day

Propose Day: A humor based Poem

Propose day is a humor based Hindi poem on love. We have heard that love is blind. It may be true as you ignore the silly things of your partner in love.  Suppose you are in the boat and just to surprise your partner stand up to propose her. Suddenly you foot slips and you fall in the lake. Asking her that I am drowning. And if she is in the sweet feeling that you are drowning in her eyes. The aftermath will be quite thrilling. Yes, it is pure imagination but humorous right! LoL.

 

Propose day: A humor based Poem

PahadNama

 

Propose Day
Propose Day

इश्क़-ऐ-इज़हार करूँगा आज, उन्हें ये मालूम था,

बस अन्दाजे बयाँ देखना चाहते थे।

तो कस्ती में ले गया समन्दर के बीच

कहने को कुछ खड़ा हुआ तो लड़खड़ा गया।

मैंने कहा “डु-डु -डूब  रहा हूँ मैं “

उनका शर्माना फिर शुरू हुआ,

डूब कर मौत मेरी होगयी,

उनका शर्माना था कि ख़त्म ही नहीं हुआ।

A love quote
A love quote

 

सुना है अक्सर प्रेम के सहारे जिंदगी नहीं काटी जा सकती,

तो जरा बताओ वो कौन है जो जिंदगी काटना चाहता है।

love quote 2
love quote 2

 

” अब किसी की आँखों में मुझे नहीं खोना

कि बड़ी मुश्किल से खुद को ढूंढ पाया हूँ

ये वायदा हर बार प्यार में पड़ने के बाद करता हूँ”

love quote 4
love quote 4

” इश्क़ का रोग होता ही, ऐसा है जनाब

बर्बाद होने की आयतें, हम रोज़ पढ़ा करते हैं । “

love quote 3
love quote 3

इश्क़ कितना है हमसे वो अक्सर पूछा करते हैं

मैंने कहा कि अगर इश्क़ का कोई पैमाना होता

तो वो हमेशा छलकते रहता

For Other Love quotes on Kagaj Kalam

Previous Post Next Post

One thought on “Propose Day: A humor based Poem

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *