Pollution: A kidnapper

Pollution Hindi Poem

Pollution Hindi Poem by Kagaj Kalam. Kidnapping cases in Gurgaon, Delhi, and Noida make their places in newspaper so often. Recently I have encountered with one of such cases, I think you must have encountered with this so frequently. But I have noticed for the first time. Usually it happens in winter season when pollution level is so high.

Pollution Hindi Poem

PahadNama
Actually, we all suffer from this kidnapping but we have made it so common that this looks us normal. Nobody cares to raise the question against of this kidnapping due to their ignorance. Here I have tried to aware you who has been kidnapped, why, and culprit in poetic way. Go through the complete article and tell me whether you felt so.

 

एक शाम वो अपने घर फलक से निकला तो आज तक वापिस नहीं लौटा…

ढूंढा बहुत पर कोई सुराग हाथ न लगा सोचा FIR लिखवालुं पर कोई सुद लेना वाला ही नहीं..

आज पन्द्र वान दिन है…

 

 

न जाने किस हाल में होगा वो…

हम तो बेहाल हैं… न खेलने का मन होता है न कपडे धोने का…

कौन निगल गया है हमारी ख़ुशी सबको पता है..

पर कोई कुछ बोलता नहीं… उस अमीर घर के लौंडे को…

 

….पता है न… अरेस्ट करने में ही करोड़ों रुपये लग जाएंगे…

उसकी गाड़ियां या बिल्डिंग के काम रुकवाए

तो लोग आग जनि पे उतर जाएंगे इससे भी तो वो  Pollution ( Kidnapper )  और अमीर बनता जायेगा.

 

कोशिश तो हनुमान जी ने भी की थी जिसे निगलने की ….और …चूक  भी गए थे….

  पर इस प्रदुषण की धुंध ने तो उसे पूरा निगल लिया…

 …… .. अब कौन सूरज को उसके घर फलक तक पहुंचाएगा…

Previous Post Next Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *