Pakshi Par Kavita

pakshi par kavita

Pakshi Par Kavita by kagaj kalam, An inspiring Hindi poem which tells the journey of a brave and curious bird. She has left her home to pursue her dream. She meets many people in the journey and makes them to love her. Maybe somewhere you find yourself in that bird.

PahadNama

 

Pakshi Par Kavita

Fall in love with this Pakshi Par Kavita by kagaj kalam. She is very inspiring and let you live the true way of living life. Learning is her habit. Making people to love her is her attitude. Winning stumbles upon her path very often. Never gives up when lose.

Here are some other inspiring Hindi poems on environment. Hope you like them as well.

Environment Poems: 

एक पंछी उड़ चला आज़ाद ख़्वाबों के पीछे,

जिस डाल पर बैठा घर बनाता चला गया।

जिससे मिलता गया अपना मुरीद बनता चला गया।

 

जब ख़्वाब बुलाये तो उड़ चले जाना,

घरों में अपनी यादों की खुशबू छोड़ जाना।

 

हाँ तेरे बगैर घर में बातें भी होगी

पर तेरी चहचाहट की हंसी ठिठौली न होगी।

 

यादें कुछ और नहीं,

हैं खुबशुरत मोड़ों का घर,

तू चूमती रहे शिखर,

और

वो तेरी महक घर तक पहुँचती रहेगी।

 

Bird Quotes

” रख ऊँची उड़ानें और नीची निगाहें परिन्दे

कि कोई शिकारी घात लगाये बैठा है। “

 

” पिंजरे के अंदर का फड़फड़ाता पंछी मैं,

लोग मेरी आज़ाद होने की जुस्तजू को ,

मेरी अदा समझ बैठे हैं । “

3 thoughts on “Pakshi Par Kavita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *