Hindi poems on Love

Hindi poems on Love. Time when you resist someone to enter your heart. It may because of your bad experiences. But you have no control over your emotion, somebody surely knocks at your heart’s door no matter how rigid to try to be. Here a person is asking questions to his love that how and why you entered in my life. Once you have entered, please don’t go now. So, go with the flow, maybe this time you are with your right one.

Hindi poems on Love: 1

मेरे सपनों का पता तुम्हें किसने दिया,

माना रात में  होगी कोई मजबूरी ,

पर दिन में भी मेरे ख्यालों में रहने का हक़ तुम्हे किसने दिया।

मैंने तो कभी खोला ही नहीं अपने दिल का दरवाजा,

फिर कैसे तुम भीतर चले आये,

 

मेरे अरमानो के अस्त-व्यस्त कमरे को बड़ी तरतीब से सजाये ।

अब आ ही गयी हो, तो एक बात सुन लो न,

मेरे जज़्बात को जिन्दाकर, इन  हसीन पलों को जवां कर,

मेरे ख्वाबों को गुलज़ार कर,

दिल के दरवाज़े को भीतर से चटकनी लगाकर

अन्दर ही रह जाओ न 

Hindi poems on Love: 2

 

एक गुम हुआ पर्श मुझे सड़क पे यूँ ही पड़ा मिला,

कुछ पैसे और ढेर सारे कार्ड्स ।

पता पास का ही था

तो पुलिस स्टेशन की जगह

खुद ही अमानत लौटने का मन बना लिया ।

पते पे पहुंचकर जब बेल बजायी,

तो किचेन से दौड़ते हुए

एक आवाज आयी “अभी आयी “
प्रेशर कुककर चढ़ाया होगा शायद,
दरवाजा खुला

तो अपने बेफिक्र लटों को संवारती एक लड़की

नज़रें जा मिली और दो से चार हो गयी,

पता नहीं ये हवायें कहाँ से चलने लगी
सब कुछ वहीँ पे ठहर सा गया

बेशर्मी कुछ और देर चलती

कि प्रेशर कुककर ने

सिटी बाज़ा कर बाज़ी मारली

 

भले वो प्यारा सा पल टूट गया हो

पर दाल हमारी गलने लगी थी ।

PahadNama Has a lot to say about love, friendship, and caring about Pahad.

Comments 4

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *