Hills on Fire: Save the Forest

Hills on Fire: Save the Forest

HINDI

पहाड़ों की धरती, अब आग है, यों उगलने लगी

मानों सीने में बरसों पुराना, ज्वालामुखी सुलगाये हो बैठी।

 

जंगल जले हम मूक रहे,

जानवर जले हम अंधे बने,

अनसुना कर उनकी पुकारों को,

हम बधिर भये, शर्महीन हुए।

 

” शायद अब जलते हुए जंगलों की आंच हम तक पहुँच पायेगी

जब गर्मी घर की दीवारों को भट्टी बना, हमे तंदूरी कर जाएगी। “

 

जब नदियों का उदगम स्थल ही प्यासा रह जायेगा,

तब कोई चमत्कार ही  बूंद पानी इस जहान को पिलायेगा।

शायद उस दिन जान पायें हम मछली की तड़प,

जब दो बूँद पानी के लिए रक्त बहाये जायेंगे,

पर फिर भी प्यास किसी की भी बुझा पाने में असमर्थ खुद को पायेंगे।

 

सच कहूँ तो मुख से न कोई आह निकालूँगा,

तू केदारनाथ जैसा कोई प्रलय कर,

मैं हँस के भी वो सह जाऊँगा।

किस मुंह से मांगु एक और मौका,

इंसानो की करनी है, हमे ही भुगतना होगा।

 

अब देर न कर,

अस्तित्व पे अपने प्रश्नचिन्ह न लगा,

पापी हूँ और देख ! घड़ा भी अब भर चुका। 



  Hills on Fire: Save the Forest

English:

 

PAHDON KI DHARTI,

AB AAG HAI YUN UGALNE LAGI

MANO SEENE ME BARSON PURANA,

JWALAMUKHI SULGAYE HO BAITI “

 

“JUNGLE JALE HUM MOOK RAHE

JANWAR JALE HUM ANDHE BANE

UNSUNA KAR UNKI PUKARON KO

HUM BADHIR HUYE, SHARMHIN HUYE”

 

“SHAYAD AB JALTE HUYE JUNGLON KI AANCH HUM TAK PAHUNCH PAAYEGI

JAB GARMI, GHAR KI DEEWARON KO BHATI BNA, HUME TANDOORI KAR JAYEGI”

 

“JAB DO BOOND PAANI KE LIYE RAKT BAHAYEIN JAYENGE

PAR FIR BHI PYAAS, KISI KI BHI BHUJHA PAANE ME ASMARTH KHUD KO PAYEINGE”

 

SACH KAHUN TO MUKH SE N KOI AAH NIKALUNGA,

TU KEDARNATH JAISA KOI PRALAY KAR,

MAIN HANS KE WO BHI SAH JAUNGA.

 

KIS MUNH SE MAANGU AK AUR MAUKA,

INSAANO KI KARNI HAI, HUME HI BHUGATANA HOGA.

AB DHER N KR,

ASTITVA PE APNE PRASHNCHINH N LAGA,

PAAPI HUN DEKH! GADHA BHI AB BHAR CHUKA.

 

 

 

I remember my promise to tell you about one more site where you can find excellent modern poets and their poems through kagajkalam.

anubhuti

Visit the site and enjoy the poems if poetry is your zoner.

NEXT>>>>

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *