Father Son Hindi Poem

Father Son Hindi Poem

Father Son Hindi Poem by Kagaj Kalam is an experience of past. I am sure everyone had gone beaten up by his father at any point. At that time it was painful but now it is nothing but hilarious to remember it.

 Kagaj Kalam For Few Lines on Father Day

Father Son Hindi Poem: Beating

PahadNama For Videos

 

हेय सुनो।  क्या तुमने भी मेरी तरह मार खायी है।

कहीं से पिट के आये हो या किसी को पीट के आये हो।

दोनों ही सूरत में घर जाकर, मूरत केवल तुम्हारी ही बिगड़ी हो।

 

कहीं से गिरे हो या किसी को गिराया हो

चोट लगी हो या किसी को लगायी हो

कुछ भी हो डंडे से सिकाई केवल तुम्हारी ही हुई हो,

 

हेय सुनो।  क्या तुमने भी मेरी तरह मार खायी है।

नहीं जी नहीं जी, हाँ जी हाँ जी, अब नहीं करेंगे जी के गाने क्या तुमने भी गुनगुनाये है।

बन्दर को पीछे से देख, क्या तुमने भी मेरी तरह BUM मसाजी है।

हेय सुनो।  क्या तुमने भी मेरी तरह मार खायी है।

 

दर्द उस पिटाई का, आज के अकेलेपन का मलहम बन गया,

जब बीते दिनों की यादों के समंदर में डुबकी लगा,

ठहाकों के मोती चुनकर मैं ले आया।

Father quotes in Hindi

visit,  Kagaj Kalam For Few Lines on Father Day, To find the status for father, quotes on father in Hindi, status for father in Hindi, mother father quotes in Hindi, father status in Hindi, poem on father in Hindi, father son quote, best lines for father in Hindi, Hindi poem on mother and father, mother father shayari in Hindi, quotes for father and son, best father status, and many more.

Previous Post Next Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *