Chasing Your Dreams

बचपन का वो सुकून भरा जमाना ,

सपने देखना और उनके लिए दौड़ लगाना,

उन्हें पाकर फिर से सपनो में खो जाना।

 

बचपन में सपने हमेशा हम बड़े बुना करते थे,

उन्हें पाने के लिए बस दौड़ लगा दिया करते थे

जीने की और राह कहाँ हम चुनते थे।

chasing A Big dream
chasing A Big dream

 

पर बड़ा हुआ तो सपनो को छोटा होते देखा,

मेरे जज्बातों से उन्हें नाता तोड़ते हुये देखा,

हालत से मेरी समझौता कर उन्हें सोते हुए देखा।

 

life is too short to live for others dreams
life is too short to live for others dreams

 

पर अब भी जारी है दौड़,

भले अपने नहीं,

किसी और के सपनो को पूरा करने की दौड़

जीना छोड़।

१२ घंटे यूँ ही दे देता हूँ ऑफिस को, अपना सुकुन छोड़।

 

सुकून के पल अगर नींद बनकर आयें,

तो कॉफ़ी के मग में उसे घोलकर हम पी जायें।

 

Weekends के इंतज़ार में काटें हम दिन,

सोने में, छोटी मोटी चीज़ों में निकल जाता है Weekends का जिन्न।

 

एक दिन बैठा सोचने, अपनी दौड़ का कमाया,

क्या खोया, मैंने क्या पाया,

कुछ सही सा हिसाब न बन पाया।

समझ में कुछ न आया,

सारा जोड़, गुणा, भाग था आजमाया।

Race between me and clock needles
Race between me and clock needles

 

 

अचानक  जो नजर आयी घडी,

चौपट हो गयी सारी  लिखा पड़ी।

 

ये सवाल तो विज्ञानं का था,

मैं फालतू में Maths में सर खफा  रहा  था।

 

मेरी दौड़ मेरे सपनो के लिए नहीं थी,

बस घडी के काँटों से  जो मेरी जंग छिड़ी थी।

कितना भी दौडूं, अगर Displacement हो जीरो,

कितना काम किया, क्या है कमाया,

सब होना ही है नील बटे जीरो,

क्यों  हीरो !

chasing your dreams 1
chasing your dreams 1

 

अब घडी के काँटों से नहीं,

अपने सपनो की तितलियाँ पकड़ने दौडूँगा।

भले ही लम्बे कदम नहीं, Baby Steps चलूँगा,

Company के लिए केवल काम,

पर अपने सपने के लिए जीऊँगा।

वक़्त मिलेगा तो उसी के लिए भी  दौडूँगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *