Category «SOCIAL ISSUES»

Social issues of India are very complicated as we are living in very diverse country. One thing is right for one culture doesn’t fit to another. Without a common page how we are going to diagnose the social issues.

There is no simple answer of this. One thing is for sure only patience, education, and will power to change can make it feasible. The Social issues in India are deep down. Even a good education can’t bring them out. People must have determination to change. Otherwise weak will suffer for endless time. Poor, farmers, women, and many more fall in this category.

Yes, we have social issues. Many people especially youth are coming forward to fight against these all negativity. When there is dark, they are saving ray of hope for weaker section.

We light the social issues of India with Hindi poems, Hindi stories, and thoughts. Besides, they are challenging those problems by keeping their voice up. No, we are not doing anything new. Of course it has been done already. Our great Hindi poets have already made their point. Success for them is to inspire new generation to follow their steps.

Read the column and be part of this change. It will be a great appreciation for us.

The Game: Get the Seat First

The Game: Get the Seat First

Sometimes, without disclosing what is going in our mind, we find ourselves playing the same game. At this time, the game’s name is not discovered but I named it who is going to get the seat first. Most of us would have played this game in many public places. But playing such a game in the metro …

Power of Character: A Story In Hindi

Power of Character: A Story

कहते हैं कि आप स्किल्स की वजह से कम अपने करैक्टर की वजह से ज्यादा, उस मक़ाम पर होते है जो आप हाशिल करना चाहते हैं।  हाँ वो करैक्टर जो बनने से पहले कई सीढ़ियां चढ़ के आता है। पैदा होने से शुरू हुआ ये सफर बचपन,परिवार, स्कूल, दोस्त, कॉलेज, प्यार, breakups, मेहनत , सफलता, …

Because I don’t Lose: क्योंकि मैं हार नहीं मानता

क्योंकि मैं हार नहीं मानता

मैं हार नहीं मानता। क्योंकि कभी किसी ने सिखाया ही नहीं । न लोगों ने, न किताबों ने, न मोटिवेशनल स्पीकर्स ने, और नहीं कभी मेरे बाप- दादाओं ने। तो भला मैं अपने बच्चों को कैसे सिखाता। सुना है। इस ऐटिटूड से लोगों ने बहुत कुछ पाया है। एग्जाम में अच्छे मार्क्स, सरकारी नौकरी, पैसा, …

Environment Day In 2020

टिड्डियों के हमले नये नहीं न जाने क्यों जाने पहचाने लगते हैं।   जिस जगह से उड़ते हैं पूरी की पूरी हरियाली चटकर जातें हैं। जिस तरह से जंगल के जंगल सारे के सारे कट जाते हैं।   टिड्डियों के हमले नये नहीं न जाने क्यों जाने पहचाने लगते हैं।   न मिली हरियाली तो …

Lock Down: मैं नहीं जानता मैं नहीं मानता

मैं नहीं जानता मैं नहीं मानता- A story of our ignorance

मैं नहीं जानता मैं नहीं मानता line:  शायर हबीब जालिब All News: Hindustan Hindi news paper. The Story is about our complete negligence toward the nature. In the mean time of lock down,  when nature is trying to bounce back, it is still out of our notice how beautiful and perfect it is with or …

Coronasur

coronasur

रोजाना की तरह अपने ऑफिस के बाहर चाय सुट्टा मारने पहुंचा तो देखता हूँ कोई नहीं सब खाली एक दम खाली ..   सिगरेट जलाते हुए पूछा:    क्या बात अंकल कोई आया नहीं अंकल चाय देते हुए : कोरोना बेटा कोरोना… बात शुरू ही हुयी थी की गिलास से धुँवा उठा और कुछ जिन्न …

Woman: Beyond Definition

Woman Day -Her Quest For Identity

कौन  हूँ  मैं ? दुर्गा, काली, सीता का अभिमान मैं, या किसी के पैर की जुती का स्थान मैं।   कौन  हूँ  मैं ? कवि की रचना का फूल मैं, या पैदा होने से पहले कुचली,  वो कली मैं।   कौन  हूँ  मैं ? चाँद जिस खूबसूरती से जले वो जलन मैं, या चाँद जैसा …