अब और नहीं | Hindi Story

अब और नहीं | Hindi Story is another beautiful story by Bhumika Joshi that inspire us in different ways.

अब और नहीं | Hindi Story

अभी सुबह के 5:00 बजे थे और मेरी मां मुझ पर चिल्लाना शुरू हो गई जल्दी उठ अभिज्ञा  वरना स्कूल के लिए देरी हो जाएगी। मेरी मां हर रोज मुझे इसी तरह से जगाती है और अब मुझे ठीक 5:00 बजे उठने की आदत सी पड़ गई मेरे छोटे भाई को भी मां इसी तरह उठाती है पर वह मुझसे छोटा है तो इसलिए उसको 6:00 बजे उठाया जाता है। मां ने हम दोनों के लिए 6:30 बजे तक खाना तैयार कर दिया आज मां ने जाते जाते मुझे पूरी कटोरी दही शक्कर खिलाई और बोला अभिज्ञा आज तेरी आखिरी परीक्षा है तो सोच समझ कर अच्छे से करके आना। जब से मेरी 12वीं की परीक्षाएं शुरू हुई तब से मेरे मां पिताजी मुझको रोज एक ही बात बोलते हैं देख अभिज्ञा यह 12वीं है इसमें अगर अच्छे नंबर आ गए तो आगे की जिंदगी पूरी सही से रहेगी और यह बात सिर्फ मेरे मां पिताजी नहीं बल्कि जिससे मैं मिलती हूं उसको जब पता चलता है कि मैं 12वीं के फाइनल परीक्षा दे रही हूं तो सब मेरे को यही बोलते हैं। पहले मुझे इतना डर नहीं लगता था पेपर देने से पर अब लोगों की बातें सुनकर ऐसा लगता है कि पता नहीं कौन सा पहाड़ तोड़ने जा रही हूं मैं।

Read Here: Hindi Poems From Kagaj Kalam

जिंदगी सरल ही सरल

मैं आज दोपहर के 3:00 बजे घर आई परीक्षा देकर तो  मेरी मां बोली इतनी देरी क्यों हुई मैंने बोला आज मैं और मेरे कुछ दोस्त खाने-पीने बाहर चले गए थे। मां ने तो ज्यादा कुछ नहीं बोला पर बगल में बैठी मेरी दादी ने मुझसे पूछा कि अभिज्ञा क्या लड़के तो नहीं थे तेरे साथ । मैंने बोला दादी हम 4 लड़कियां थी और तीन लड़के थे तब मेरी दादी का मुंह खुला का खुला रह गया और बोली तू लड़कों के साथ क्यों घूम कर आई लड़के अच्छे नहीं होते देख नहीं रही आज का जमाना कैसा है। मैंने बोला दादी मुझे सब पता है अब मैं अगर अपनी दादी को समझाने बैठती तो मेरा तो काम ही हो जाता क्योंकि उनको तो अपनी सोच ही सही लगती है इसलिए मैंने कुछ नहीं कहा और चुपचाप अपने कमरे में आराम करने चली गई। मेरी जिंदगी में अलग ही कुछ चल रहा था वैसे तो यह समय मस्ती करने का है इधर उधर घूमने का है पर पड़ोस वाली आंटी रोज के रोज आ जाती थी मेरे घर और मेरी मां के सामने यह बोलती थी कि अब अभिज्ञा को आगे क्या कराने का सोचा है , नंबर अच्छे आए तो जिंदगी सरल ही सरल होगी । मेरे बेटे की 95 प्रतिशत आई थी और देखो आज विदेश में नौकरी कर रहा है। एक आंटी ने तो यह भी कहा कि लड़कियों का क्या है अगर नंबर नहीं आए सही तो हाथ पीले कर देना। मेरे को कभी कभी इतना गुस्सा आता है कि मैं यह सोचती हूं कि आंटी को बोल दूं कि आंटी जी आपका बेटा विदेश में नौकरी इसलिए कर रहा है क्योंकि उसको अपने देश में नौकरी मिली ही नहीं और जहां तक मेरी शादी की बात है वह आप मेरे मां पिताजी पर छोड़ दो आपको कष्ट करने की कोई जरूरत नहीं है। अब रिजल्ट नज़दीक आ गए पूरी छुट्टियां लोगों की बातें सुनते सुनते निकल‌ गई और अब तो पता नहीं क्या ही बोलेंगे।

Read Here: Hindi paheli for kids from Kagaj Kalam

रिजल्ट: अब और नहीं | Hindi Story

मेरे घर वालों ने पूजा करवाई क्योंकि कल मेरे रिजल्ट आने वाला था मुझे समझ नहीं आया अब मैंने पेपर भी दे दिया मेरी शीट भी चेक हो गई है और कल मेरे नंबर भी पता चल जाएंगे तो भगवान से मेरे नंबर बढ़ाने की कामना क्यों और भगवान बड़ा कैसे देंगे?

सुबह हो गई मां तो सुबह से भूखी  बैठकर जाप कर रही थी और पिताजी गीता का पाठ कर रहे थे यह सब देखने के बाद मेरी तो हालत अजीब ही हो गई रिजल्ट का समय हो गया और मैंने देखा मुझे 75% मिले हैं मेरे पिताजी और‌ मां ने मुझे देख कर बोला थोड़ी और मेहनत कर लेती तो आज तेरे कितने अच्छे नंबर आए होते और वैसे ही मेरी पड़ोस वाली आंटी आती है बोलती है बस 75% ही आए हैं  मैं तो बोलरी शादी करवा दो इसकी अब तो।

Watch Here: PahadNama

बेटी मैं तेरे को आगे पढ़ाना चाहता हूं: अब और नहीं | Hindi Story

शाम को जब मेरे पिताजी घर आए तो उन्होंने मेरे को बोला कि तेरी सहेली सेजल फेल हो गई और उसने आत्महत्या कर ली तब मेरे पिताजी ने मुझे गले लगाया और बोला देख बेटी मैं तेरे को आगे पढ़ाना चाहता हूं और तू अपनी तरफ से पूरी मेहनत करना कभी हार मत मानना ।कभी कभी बड़ा युद्ध जीतने के लिए छोटी लड़ाई में हार गए तो कोई बड़ी बात नहीं होती सब कभी ना कभी गिरते है और तू तो अभिज्ञा है जो ना कभी हार मानती है और ना ही कभी मानेगी।

यह बात सुनकर मुझे बहुत ख़ुशी हुई उस समय दुःख इस बात का हुआ कि आज मैंने एक सहेली को खो दिया पर जो भी है गलती सिर्फ़ ‌ उसकी नहीं है मेरे 75 प्रतिशत आए तब मेरे साथ यह हुआ और वह तो फेल हुईं है उसको तो कितना सुनना पड़ा होगा इसलिए तो कहते हैं इस सोच को अभी के अभी छोड़ दो और दूसरों की हिम्मत बनने की कोशिश करो…..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *